UPDATED 05.28PM IST

  • ad
  • ad
  • ad
  • ad
Deepak Dogra
  • ad
  • ad

Breaking News 24X7 :

Top Stories

  • स्वस्थ आहार अपनाएं, स्वाइन फ्लू से दूर रहें

    10.03.2015 | देश में तेजी से बढ़ रहे स्वाइन फ्लू के संक्रमण को देखते हुए आहार विज्ञानियों ने सुझाव दिया है कि आहार में स्वास्थ्यवर्धक तत्वों का समावेश स्वाइन फ्लू के संक्रमण से बचाव में मददगार हो सकता है। स्वाइन फ्लू के कारण देश भर में अब तक 1,100 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।राष्ट्रीय राजधानी के न्यूट्री हेल्थ सिस्टम्स की आहार विशेषज्ञ शिखा शर्मा ने कहा, "स्वाइन फ्लू के संक्रमण से बचाव में आहार की बेहद अहम भूमिका है, क्योंकि स्वाइन फ्लू अधिकांशत: ऐसे लोगों में ही फैलता है जिनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है।"शिखा ने आईएएनएस को बताया, "एंटी ऑक्सिडेंट तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थो के सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि की जा सकती है, जो ताजा फलों और हरी सब्जियों में प्रचुर मात्रा में होता है।"शिखा ने रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि के लिए विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थो के सेवन की सलाह भी दी।शिखा ने कहा कि बेहद कम रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्तियों को भी अपने भोजन में मांस, मछली और सोया जैसे अत्यंत पोषक तत्वों को शामिल करना चाहिए।ताजा गाजर, आंवला और पालक के जूस का सेवन करने से भी एच1एन1 विषाणु से लड़ने में मदद मिलती है।'होल फूड इंडिया' कॉफी हाउस एवं खुदरा बिक्री केंद्र के संस्थापक एवं पोषण चिकित्सक इशि खोसला के अनुसार, तुलसी, लहसुन और हल्दी जैसे खाद्य भी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा सकते हैं।इशि ने कहा, "लहसुन का आक्सिकरण रोधी गुण हमारे रक्त में स्वाभाविक प्रतिरोधी कोशिकाओं का विकास कर रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि कर सकता है।"शिखा ने रोग प्रतिरोधक बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थो में अदरक का भी जिक्र किया। इसके अलावा उन्होंने सूरजमुखी और कोहड़े के बीजों के सेवन की सलाह भी दी।शिखा ने बताया कि भूख का न लगना भी स्वाइन फ्लू का लक्षण हो सकता है।स्वाइन फ्लू से संक्रमित हो चुके रोगियों के लिए संतुलित आहार के बारे में उन्होंने कहा, "जानबूझकर न खाएं। थोड़ा-थोड़ा और बार-बार खाएं। अपने भोजन में ताजे फल और सब्जियों को अधिक से अधिक शामिल करें तथा कई तरह के तरल पदार्थो, जैसे सब्जियों के सूप को भी अपने भोजन में शामिल करें।"संक्रमित लोगों को हालांकि अपनी खाई हुई चीजें दूसरों को देने से बचना चाहिए तथा चाय और कॉफी पीने से भी बचना चाहिए।स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार, इस वर्ष अब तक देश में 21,000 से अधिक स्वाइन फ्लू के मामले सामने आ चुके हैं। 2009 के बाद से यह स्वाइन फ्लू से संक्रमित होने वालों की सर्वाधिक संख्या है।एक जनवरी, 2015 से 26 फरवरी के बीच 5,262 मामलों और 251 मृतकों के साथ राजस्थान स्वाइन फ्लू के सर्वाधिक खतरे वाला राज्य है।

  • सुपारी से चमकेंगे दांत और लौंग से भागेंगी चींटियां, 8 नायाब नुस्खों का कमाल

    14.03.2015 | आए दिन हमें घरों में छोटी-मोटी समस्याओं से रू-ब-रू होना पड़ता है और अगर हम इन समस्याओं से निपटने के लिए ट्रेडिशनल नुस्खे मिल जाएं, तो क्या बात है। आज हम जिक्र करेंगे हमारी छोटी-छोटी समस्याओं का और जानेंगे कुछ परंपरागत उपाय। चाहे शक्कर के बर्तन में चींटियों के आ जाने की समस्या हो या कार के अंदर दुर्गंध या आपकी सेहत से जुडी कुछ और समस्याएं, सबके लिए पारंपरिक ज्ञान के ज़रिए कई उपाय सुझाए गए हैं। छोटे-छोटे देसी नुस्खे हमारी दिनचर्या में किस कदर कारगर साबित हो सकते हैं, आज जानते हैं।1. सुपारी बनाए चमकदार दांतसाफ सुपारी को बारीक पीस लें। इसमें लगभग 5 बूंद नींबू का रास और थोड़ा सा काला या सेंधा नमक मिला लें। प्रतिदिन इस चूर्ण से मंजन किया करेंगे, तो दांत चमक जाएंगे।2. चींटी भगाने के लिए लौंगअक्सर शक्कर के डिब्बे और चावल के बोरों या बर्तन में चींटियों को घूमते फिरते देखा जा सकता है और इससे हम सभी त्रस्त हो जाते हैं। करीब 2-4 लौंग को इन डिब्बों में डाल दीजिए और फिर देखिए चींटियां किस तरह से भागती हैं। अक्सर आदिवासी खाना पकाने बाद आस-पास 1 या 2 लौंग को बर्तनों के पास रख देते हैं। इसके बाद मज़ाल है कि आस-पास कोई भी चींटी भटके।3- गुड़हल से फूल से लाएं जूतों में चमक4- नमक में चावल मिलाने से नमक पसीजेगी नहीं5- अरण्डी का तेल लगाने से नाखूनों में आती है चमक6- सेब से टुकड़ों से दूर होगी कार के अंदर की गंध7- लहसुन से कम होता है कोलेस्ट्रॉल8- अलसी के बीज चबाने से कंट्रोल में आता है डायबिटीज़

  • मोटापा कम करता है प्याज़ और आती है अच्छी नींद, इसके हैं 10 फायदे

    14.03.2015 | प्याज़ खाने के बाद मुंह में बदबू आती है। इस वजह से कई लोग इसे खाने से परहेज करते हैं। इतना ही नहीं, कई लोग तो इसे खाना ही छोड़ देते हैं। लेकिन क्या आपको मालूम है कि इसे खाने के कितने फायदे हैं? जितना न्यूट्रिशन आपको एक फल से मिलता है, उससे कई ज्यादा एक प्याज़ दे सकता है। जी हां, आज हम आपको प्याज़ के ऐसे ही कुछ फायदे बता रहे हैं, जिन्हें जानकर आपको आश्चर्य होगा।1. फैट बर्न करता हैआप अपनी फैट बर्न करने के लिए एक्सरसाइज़, योगा, वॉक और डाइटिंग, सब कुछ करते होंगे। लेकिन आप अपनी डाइट में अगर प्याज़ शामिल करेंगे, तो फैट जल्दी बर्न होगा। प्याज़ में ऐसी क्वालिटी होती है, जो कार्बोहाइड्रेट के मेटाबॉलिज़्म को तेज़ कर फैट को जल्दी बर्न करने में मददगार होता है।2. नींद के लिए फायदेमंदप्याज़ में मौजूद फाइटोकेमिकल्स (केमिकल जिससे सब्ज़ियों और फलों में रंग आता है) नींद को बढ़ाते हैं। इसीलिए अगर किसी को नींद ना आने की शिकायत हो, तो उसे प्याज़ खाना शुरू कर देना चाहिए। रात के खाने में प्याज़ को सलाद के रूप में खाएं या इसका सूप पिएं।3. मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द को कम करता हैप्याज़ मासिक धर्म में होने वाले दर्द को कम करने का भी कम करता है। इसलिए रोज़ाना प्याज़ खाना चाहिए। इसमें ऐेसे तत्व होते हैं, जो पेनकिलर का काम करते हैं। इसीलिए पीरियड्स होने से 4 या 5 दिन पहले इसे खाना शुरू कर दें।4. डार्क स्पॉट और पिगमेंटेशन कम करता हैप्याज़ में मौजूद विटामिन सी और एंटीसेप्टिक तत्व डार्क स्पॉट और पिगमेंटेशन को कम करते हैं। यह चेहरे या शरीर पर पड़ने वाले दाग-धब्बों को भी कम करता है। इसलिए प्याज़ को दही में मिलाकर स्किन पर लगाना चाहिए, या इसे फेस पैक में डालना चाहिए। कच्चे प्याज़ के स्लाइस को ऐसे ही फेस पर लगा लेने से भी फायदा होता है। यह सब रोज़ाना करने से चेहरे पर ना तो दाग-धब्बे पड़ते हैं, बल्कि स्किन भी ग्लो करने लगती है।5. कैंसर होने से बचाता है6. इम्यूनिटी बूस्ट करता है7. बालों के लिए बेस्ट8. पेट दर्द में राहत पहुंचाता है9. ब्लड शुगर लेवल को बैलेंस करता है10. ओरल हेल्थ को सही रखता है

  • चुभती जलती गर्मी में भी कायम रखें अपनी खूबसूरती

    04.04.2015 | फूलों की तरह खिली-खिली, महकी-महकी दिखने की ख्वाहिश है, तो हर हफ्ते लीजिए फ्लॉवर बाथ। ये फूल आपको अपने घर में ही या आसपास मिल जाएंगे। कुछ दिनों में ही आप दिखेंगी सबसे अलग... कुछ खास...और सब पूछेंगे आपकी खूबसूरती का राज।गेंदादो लीटर पानी एक कांच के बर्तन में लेकर उसमें आठ-दस देसी गेंदे के फूलों की पंखुडिय़ां डालकर धूप में रख दें। दूसरे दिन डाली हुई पंखुडिय़ां निकाल लें और उतनी ही फिर से पानी में डालकर धूप में रख दें। ऐसा कम से कम बीस दिन तक करें। फिर उस पानी को छानकर फ्रिज में रख लें। उस पानी चेहरे पर रुई सुबह-शाम लगाएं। ऐसा करने से ओपन पोर्स की समस्या से तो छुटकारा मिलेगा ही, साथ ही झांइयां व दाग-धब्बे भी कम हो जाएंगे।  गुलाबगुलाब फूलों का जवाब नहीं। देसी होने चाहिए। दो लाल देसी गुलाब के फूलों की पंखुडिय़ां रात को दूध में भिगो दें। सुबह उसमें एक चुटकी नमक डालकर बारीक पेस्ट बना लें। थोड़ा-सा चंदन पाउडर या दो बूंद चंदन का तेल डालकर चेहरे व गर्दन पर लगाएं। लगभग आधे घंटे बाद चेहरा धो लें। ऐसा कम से कम दो बार वीक में जरूर करें। चमेलीबालों और चेहरे दोनों के लिए चमेली के फूल बेस्ट हैं। चमेली को रात को पानी में भिगो कर सुबह मिक्सी में पीस लें। इसमें दो चम्मच गुलाब जल डाल दें। इसे बालों में लगाने से चमक आती है व चेहरे की त्वचा में निखार आता है। कैलेंडुलाये फूल सर्दी में ही मिलते हैं। इन फूलों को सुखाकर एयर टाइट डिब्बे में रख लें। ये साल भर तक खराब नहीं होते। फुंसियां, मुंहासे, बालों में डेंड्रफ इन सभी को दूर करने में इन फूलों को पेस्ट कारगर है।

All News


    Warning: include(Pagination.php): failed to open stream: No such file or directory in /home/mayahind/public_html/news.php on line 268

    Warning: include(): Failed opening 'Pagination.php' for inclusion (include_path='.:/usr/lib/php:/usr/local/lib/php') in /home/mayahind/public_html/news.php on line 268

    Fatal error: Call to undefined function pagination() in /home/mayahind/public_html/news.php on line 294