UPDATED 05.28PM IST

  • ad
  • ad
  • ad
  • ad
Deepak Dogra
  • ad
  • ad

Breaking News 24X7 :

Top Stories

  • स्टाइलिश और स्किन फ्रेंडली ज्वेलरी का ट्रेंड

    14.03.2015 | स्टाइलिश अटायर के साथ अट्रैक्टिव ज्वेलरी का कॉम्बिनेशन परफेक्ट लुक देता है। सिटी मार्केट में कॉलरनेक पैटर्न में डिजाइन की गई स्किन फ्रेंडली नेकलेस अवेलेबल हैं। कॉटन और बीड्स से बनी इस ज्वैलरी को ईवनिंग गाउन के साथ भी अटैच कर सकते हैं। पिछले दिनों नोएडा में आयोजित इंटरनेशनल ज्वेलरी शो में कॉलरनेक नेकपीस एक्जिबिट की गई थी। ज्वैलरी का ये लुक फ्रांस के लेटेस्ट फैशन में इन है, जिसे सिटी गर्ल्स भी कैरी कर रही हैं। विमंस लाइटवेट के साथ स्किन फ्रेंडली ज्वैलरी पर भी फोकस कर रही हैं। यही वजह हैकि कॉटन फैब्रिक में आए इन नेकपीस की डिमांड बढ़ रही है। इंडोवेस्टर्न आउटफिट्स के साथ कैरी करने के लिए खास स्पाइकी और ब्रिकी शेप में भी नेकपीस अवेलेबल हैं। इसमें सिल्वर, गोल्डन और रोज गोल्ड प्लेटिंग में नेकलेस खास हैं।क्रिस्टल-ब्रिकी पीस की डिजाइंसज्वलैरी फैशन में हैवी लुक देने वाले क्रिस्टल और ब्रिकी पीस से डिजाइन किए गए नेकलेस फैशन में इन हैं। पीच, पर्पल और लाइट पिंक कलर के क्रिस्टल से नेकपीस को डिजाइन किया गया है। कोरियन स्टफ से बने नेकलेस डिफरेंट रेंज में अवेलेबल हैं। कॉस्ट्यूम ज्वेलरी में भी चेंजेस आए हैं। अब गोल्डन व सिल्वर प्लेटिंग के अलावा रोज गोल्ड प्लेटिंग में भी कॉस्ट्यूम ज्वेलरी अवेलेबल है। कॉलेज गोइंग गर्ल्स और विमंस के लिए टाई पैटर्न नेकलेस डिजाइन किए गए हैं। इन नेकपीस की लेंथ ड्रेस के अकॉर्डिंग सेट कर सकते हैं। इसके साथ डॉलफिन, बार्बी, बटर फ्लाय पैटर्न के कॉम्बिनेशन से नेकपीस तैयार किए गए हैं।

  • गोवा में अब चूमने पर पाबंदी

    00.00.0000 | देश में जैसे प्रतिबंधों की बयार चल पड़ी है। ताजा मामला गोवा के एक गांव का है, जहां सार्वजनिक तौर पर चूमने पर पाबंदी लगा दी गई है। सबसे मजेदार है पाबंदी लगाने के लिए दिया गया तर्क। पणजी से थोड़ी ही दूरी पर सागर तट के किनारे बसा मनोरम सल्वाडोर डू मुंडो गांव में यह पाबंदी लगाई है और इसका कारण निवासियों में चिड़चिड़ापन पनपने को बताया गया है।सल्वाडोर डू मुंडो की उप-सरपंच रीना फर्नाडीज ने गुरुवार को आईएएनएस को बताया कि गांव की पंचायत ने स्थानीय निवासियों के अनुरोध पर यह प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया।फर्नाडीज के अनुसार यह प्रतिबंध इसी महीने लगाया गया। उन्होंने बताया, "गांव में इधर अवांछित हरकतें कुछ ज्यादा ही हो रही थीं, जिससे स्थानीय निवासियों को परेशानी हो रही थी।"गांव में सिर्फ चूमने पर ही पाबंदी नहीं लगाई गई है, बल्कि शराब पीने और तेज आवाज में संगीत बजाने पर भी प्रतिबंध लगाया गया है। प्रतिबंध की घोषणा के तौर पर गांव में चिपकाए गए पोस्टरों के सोशल मीडिया में आने से यह बात फैली।इन पोस्टरों में लिखा गया है, "किसी तरह का उत्पात न मचाएं, घूमने आए लोग हमारे गांव को स्वच्छ रखें, शराब पीना, धुम्रपान करना, ऊंची आवाज में संगीत बजाना, सार्वजनिक स्थल पर चूमना एवं उत्पात मचाना सख्त प्रतिबंधित है।"अग्रणी सोशल साइट फेसबुक पर छाए इस पोस्टर पर लोगों की प्रतिक्रियाएं भी मिली-जुली आ रही हैं।चिकित्सा पेशे से आने वाले गेरार्ड डीसूजा पूछते हैं, "चूमने पर पाबंदी क्यों? सरकार प्रेम की अभिव्यक्ति पर लगाम क्यों लगा रही है? आप सार्वजनिक स्थल पर पेशाब कर सकते हैं, लेकिन चूम नहीं सकते? इसके पीछे क्या तर्क है?"वहीं, गांव की ही रहने वाली पैट्रिसिया नजारेथ हालांकि प्रतिबंध का समर्थन करते हुए कहती हैं, "लोग सार्वजनिक स्थल पर चूमते हुए कुछ ज्यादा ही डूब जाते हैं।"

  • कैसे बनें सफल लीडर

    30.03.2015 | लीडरशिप क्वालिटी निभाना हर किसी के बस की बात नहीं होती। जिनमें ये क्वालिटी होती है, जरूरी नहीं कि वो उसे अच्छे से निभा भी लें। खासतौर पर महिलाओं के लिए ये बड़ा ही चैलेंजिंग होता है, क्योंकि उन्हें अपनी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में इस रोल को बैलेंस करना होता है। लेकिन जब आपको एक लीडर या एक बॉस की जिम्मेदारी दी जाती है, तो आप चाहते हैं कि हर कोई आपको सम्मान दे, आपकी बात माने और सुने। तो अगर आप एक अच्छा लीडर बनना चाहते हैं, लेकिन खड़ूस और अकडू बॉस की श्रेणी में नहीं आना चाहते, तो यहां हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे टिप्स जिन्हें फॉलो करके आप एक बेहतर लीडर बन सकते हैं।ध्यान से सुनने की आदत डालेंआप एक लीडर हैं, तो इसका मतलब ये कतई नहीं कि आप हमेशा सिर्फ बोलेंगे ही। अपने कर्मचारियों, टीम मेंबर्स को सुनने की भी आदत डालनी ज़रूरी है। उनका उत्साह बढ़ाने के लिए, उन्हें मोटिवेट करने के लिए उनके साथ अपने आइडियाज़ शेयर करें। अगर आप उनके आइडियाज़ को सुनेंगे और उस पर गौर करेंगे, तो इसका एक बहुत अच्छा रिजल्ट भी आपको देखने को मिलेगा। भले ही उनके सारे आइडियाज़, प्लानिंग काम के ना हों, लेकिन ऐसे में कुछ न कुछ नया ज़रूर निकलकर आता है। जिन्हें आप उस वक्त ना सही, लेकिन भविष्य में कभी इस्तेमाल कर सकते हैं। तो सिर्फ बोलने से अच्छा है कि आप अपने टीम के सदस्यों को सुनने की आदत भी डालें।टीम के लिए अवेलेबल रहेंज्यादातर ऑफिस में बॉस का काम होता है पूरे दिन अपने केबिन में बैठकर काम करना और शाम को सीधे अपने केबिन से निकलकर घर चले जाना। लेकिन अगर आपको एक सफल लीडर बनना है, तो अपने टीम मेंबर्स को सुनने के लिए अवेलेबल रहें। इससे वो खुलकर आपके सामने अपनी बातों, काम में आ रही पेरशानियों और अपने नए आइडियाज़ को रख सकें। लेकिन इसका मतलब ये बिल्कुल भी नहीं कि आप उनका बेस्ट फ्रेंड बनने की कोशिश करें और उनकी चुगली और गपशप का भी हिस्सा बनें। एक कामयाब लीडर बनने के लिए यही काफी है कि आप उनकी परेशानियां सुलझाने के लिए मौजूद हों।अपना रोल मॉडल बनाएंहर लीडर का एक एटिट्यूड होता है काम के प्रति, लोगों से घुलने-मिलने का एक अलग नजरिया होता है और ऐसे रोल मॉडल बनने के गुण रखने वाले लीडर की तलाश भी उतनी ही मुश्किल होती है। लेकिन आपको एक अच्छा लीडर बनना है, तो थोड़ा वक्त निकालकर अपने रोल मॉडल से बात करें कि कैसे वो रोजाना काम में आने वाली चुनौतियों का सामना करते हैं, कैसे तुरंत अपने आप को माहौल के अनुसार ढाल लेते हैं, बड़ी आसानी से हंसकर मुश्किमल से मुश्किल काम को अंजाम दे देते हैं। ये सब जानना-समझना आपके लीडर बनने में बहुत सहायता कर सकता है। इन चीज़ों को अपनाकर आप एकदम से तो सफल लीडर नहीं बन सकते, लेकिन उसे फॉलो जरूर कर सकते हैं। तो बिना किसी हिचकिचाहट के अपने रोल मॉडल से बात करें।अपने टीम के सदस्यों को प्रेरित करेंअगर आपकी टीम का कोई सदस्य अच्छा काम कर रहा है, तो उसे प्रोत्साहित करना कभी ना भूलें। फिर चाहे वो कोई अवॉर्ड देकर, पीठ थपथपा कर, एक छोटी सी लंच या डिनर ट्रीट देकर, एक छोटा सा ई-मेल भेजकर कर ही सही। वैसे आपका अपने केबिन से सिर्फ थम्स अप करना भी टीम के सदस्यों के मोटिवेशन के लिए काफी होता है। इससे आपके टीम मेंबर्स ज्यादा उत्साहित होकर काम करते हैं जिससे प्रोडक्टिविटी बढ़ती है।हंसते-मुस्कुराते हुए काम करेंअगर आप कंपनी के किसी बड़े पद पर हैं, तो इसका मतलब ये कतई नहीं कि आपको हर वक्त सीरियस रहना है। आपको भी मजाक करने, संता-बंता के जोक्स पर हंसने का पूरा हक है। आपके इतना भर करने से आपके टीम मेंबर्स डर के और तनाव में नहीं, बल्कि फ्री होकर काम करेंगे। अच्छे सेंस ऑफ ह्यूमर का होना थोड़ा मुश्किल जरूर है, लेकिन नामुमकिन नहीं।क्या करने जा रहे हैं, उसके बारे में क्लियर रहेंजब आप अपने टीम को कोई नया काम बता रहे हैं, कोई नई जिम्मेदारी देने वाले हैं, तो अपनी बातों को बिल्कुल टू द प्वाइंट रखें। क्लियर रखें और उन्हें उलझाएं नहीं। वैसे कोशिश करें कि आप हर हफ्ते होने वाली घटनाओं, जरूरी कामों की लिस्ट उन्हें पहले ही तैयार करके दे दें जिससे उन्हें काम करने के लिए बहुत सारा वक्त मिल जाए। आप बार-बार उनके द्वारा पूछे जाने वाले सवालों के जवाब देने से भी बचेंगे और आपको अपना जरूरी काम निश्चित समय पर भी मिल जाएगा।पॉजिटिव सोच रखेंहमेशा नकारात्मक सोच एक सफल लीडर बनने में सबसे बड़ी बाधा होती है। सही और सकारात्मक सोच बहुत सारी समस्याओं को बड़ी आसानी से खत्म कर सकती है। साथ ही आपके टीम के सदस्यों को अच्छा काम करने के लिए भी प्रेरित करती है। तो हमेशा पॉजिटिव रहें। इससे आपके टीम मेंबर्स भी खुश और पॉजिटिव होकर काम करेंगे।इन सारे रूल्स को अपनाकर जल्द ही आप न सिर्फ अच्छे लीडर्स की लिस्ट में शामिल हो सकते हैं, बल्कि जिस सम्मान और प्यार की चाहत आप अपने टीम मेंबर्स से कर रहे थे, वो भी पा सकते हैं।

  • मावा केक बनाने की विधि

    05.04.2015 | सामग्री3/4 कप मक्खन, 1/2 कप चीनी पाउडर,  डेढ़ कप  मैदा, 5 पांच बड़े चम्मच मिल्क पाउडर, 2 बड़े चम्मच कॉर्न स्टार्च, 1 छोटा चम्मच बेकिंग पाउडर, 1/4 चम्मच हरी इलायची पाउडर, 2 बड़े चम्मच दूध, 1/4 कप बटर मिल्क और मावा डेढ़ चम्मच. बनाने की विधि ्रपिसी चीनी और बटर को एक बड़े बाउल में डालकर लकड़ी के चम्मच की सहायत से तब तक फेंटें, जब तक वह अच्छी तरह से मिक्स न हो जाये. मिल्क पाउडर को एक बाउल में छानें. छने हुए पाउडर में मावा डालें और चीनी व बटर से पेस्ट में एक साथ अच्छी तरह से मिक्स कर लें. अब कॉर्न स्टार्च, बेकिंग पाउडर, बेकिंग सोड़ा व इलायची पाउडर डालें और अच्छी तरह से मिलाएं. मिश्रण को एक साथ चलाएं. यदि मिश्रण ज्यादा गाढ़ा हो जाये तो उसमे थोड़ा-सा दूध डालकर मिलाएं. अब तैयार मिश्रण को चिकनाई लगे मोल्ड्स या पेपर कप में डालें और अच्छी तरह से ढक कर ओवन में 170 डिग्री पर बेक करें. पक जाने के बाद पेपर कप्स को हटा दें और मावा केक को प्लेट में सजा दे. तैयार है टेस्टी एगलेस मावा केक. आप चाहें तो इन्हें मेहमानों को गरमागरम या ठंडा होने के बाद, दोनों तरह से सर्व कर सकते हैं.

All News


    Warning: include(Pagination.php): failed to open stream: No such file or directory in /home/mayahind/public_html/news.php on line 268

    Warning: include(): Failed opening 'Pagination.php' for inclusion (include_path='.:/usr/lib/php:/usr/local/lib/php') in /home/mayahind/public_html/news.php on line 268

    Fatal error: Call to undefined function pagination() in /home/mayahind/public_html/news.php on line 294